SMART CITY

SMART CITY के लाइफ प्रोजेक्ट में जुड़ेंगे मानव रचना के स्टूडेंट्
(Yogesh Gautam) Dainikkhabre.com Monday,05 September , 2016)

Faridabad News , 05 Sep 2016 : फरीदाबाद को स्मार्ट सिटी के नाम से पहचान मिलने के बाद जिले के लोग गौरांवित महसूस कर रहे हैं। अब शहर में जल्द स्मार्ट सिटी के लाइफ प्रोजेक्ट की शुरुआत होने जा रही है। इसके लिए सोमवार को मिनिस्ट्री आफ अर्बन डिवेलपमेंट, भारत सरकार व फरीदाबाद नगर निगम की टीमें मानव रचना कैंपस पहुंची। टीमों ने मानव रचना के स्टूडेंट्स के साथ पहले चरण का प्लान शेयर किया। इस चरण में सर्वे के आधार पर आगे के प्लान तैयार किए जाएंगे। इस मौके पर मिनिस्ट्री आफ अर्बन डिवेलपमेंट, भारत सरकार की ओर से श्री मुनीश पंडित व फरीदाबाद नगर निगम के सुप्रीटेंडिंग इंजीनियर डीआर भारकर व डिपार्टमेंट आफ बायोटैक, एफईटी की एचओडी सरिता सचदेवा व डिपार्टमेंट आफ प्लानिंग एंड आर्किचेक्टर की डीन डॊ. अंजलि कृष्णनन शर्मा व प्रोफेसर डिजाइन चेयर जितेंद्र सहगल मौजूद रहे।

6 टीमों का होगा गठन

स्मार्ट सिटी के नोडल आफिसर श्री डीआर भास्कर ने बताया कि पहले चरण में सर्वे का काम किया जाएगा। इसके लिए 6 अलग-अलग प्रोजेक्ट के लिए टीमों का गठन किया जा रहा है। मानव रचना के स्टूडेंट्स की बनाई गई यह 6 टीमें बनाए गए प्रोजेक्ट पर सर्वे करेंगी। पहली टीम ओल्ड के रेलवे स्टेशन व मैट्रो स्टेशन के आस पास में किए जाने वाले विकास पर सर्वे करेंगी। वहीं दूसरी टीम फरीदाबाद के पुराने बराही तलाब में किए जाने वाले विकास के बारे में रिपोर्ट तैयार करेगी। इसके अलावा तीसरी टीम व चौथी टीम बड़खल झील के आस पास फॊरैस्ट सिटी व बायो डायवर्सिटी पार्क बनाने के लिए सर्वे करेगी। इसके साथ 21ए व 21 डी और सेक्टर 19 व 28 की डिवाइडिंग रोड पर लगने वाले जाम व ट्रैफिक को कम करने के लिए सर्वे करेगी।

आम जन के साथ के साथ होगा विकास

श्री डीआर भास्कर ने बताया कि स्मार्ट सिटी सभी की है और यहां पर विकास आम जन के सहयोग के साथ ही होगा। बनाए गए सर्वे को भारत सरकार के वैब पोर्टल पर डाला जाएगा और आम जन से इस पर सुझाव मांगे जाएंगे, जिसके बाद डिजाइन तैयार किया जाएगा।

4 दिन में रिपोर्ट होगी प्रस्तुत

सोमवार को दौरे में मिनिस्ट्री व एमसीएफ के अधिकारियों के द्वारा प्लान स्टूडेंट्स के साथ शेयर किया गया। अब स्टूडेंट्स की 6 टीमें 4 दिन तक सर्वे करके अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगी। अगर रिपोर्ट के बाद डिजाइन में भी इन टीमों का सहयोग लिया जाएगा। इस टीमें में मानव रचना इंटरनैशनल यूनिवर्सिटी (एमआरआईयू) के डिपार्टमेंट आफ प्लानिंग एंड आर्किचेक्टर व डिपार्टमेंट आफ बायोटैक के स्टूडेंट्स को शामिल किया गया है।

Videos

slider by WOWSlider.com v8.6